मां दुर्गा के चौथे स्वरूप मां कुष्मांडा की पूजा आज

ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने वाली मां कुष्मांडा
==============================
आज यानी 2 अक्टूबर को नवरात्र के चौथे दिन कुष्मांडा देवी के स्वरूप की पूजा-उपासना की जाएगी। इस दिन साधक को अत्यंत पवित्र और अचंचल मन से कुष्मांडा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा-उपासना के कार्य में लगना चाहिए। नवदुर्गा के चौथे स्वरूप में देवी कुष्मांडा सूर्य ग्रह पर अपना आधिपत्य रखती हैं। देवी कुष्मांडा का स्वरुप उस विवाहित स्त्री व पुरुष को संबोधित करता है, जिसके गर्भ में नवजीवन पनप रहा है अर्थात जो गर्भावस्था में है। वीर मुद्रा में सिंह पर सवार देवी कुष्मांडा सुवर्ण से सुशोभित है तथा शास्त्रों ने इनके स्वरूप को प्रÓवलित प्रभाकर अर्थात् चमकते हुए सूर्य जैसा कहा है।

देवी ने की थी ब्रह्माण्ड की रचना
=======================
शास्त्रों में इनका निवास सूर्यमंडल के मध्य लोक में कहा गया है। जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, तब इन्हीं देवी ने ब्रह्माण्ड की रचना की थी। अत: ये ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति हैं। इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है। वहाँ निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है। इनके शरीर की कांति और प्रभा भी सूर्य के समान ही दैदीप्यमान है।
इनके तेज और प्रकाश से दसों दिशाएँ प्रकाशित हो रही हैं। ब्रह्माण्ड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में अवस्थित तेज इन्हीं की छाया है। माँ की आठ भुजाएँ हैं। अत: ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी विख्यात हैं। इनके सात हाथों में क्रमश: कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है। इनका वाहन सिंह है।

कालपुरुष सिद्धांत
=============
कालपुरुष सिद्धांत के अनुसार कुण्डली में सूर्य का संबंध लग्न पंचम और नवम घर से होता है अत: देवी कुष्मांडा की साधना का संबंध व्यक्ति के सेहत, मानसिकता, व्यक्तित्व, रूप, विद्या, प्रेम, उदर, भाग्य, गर्भाशय, अंडकोष व प्रजनन तंत्र से है।

माता कुष्मांडा की पूजा विधि
======================
वास्तुपुरुष सिद्धांत के अनुसार देवी कुष्मांडा की साधना का संबंध आदित्य से है, इनकी दिशा पूर्व है, इनकी पूजा का श्रेष्ठ समय हैं सूर्योदय। इनकी पूजा लाल रंग के फूलों से करनी चाहिए। इन्हें सूजी से बने हलवे का भोग लगाना चाहिए तथा शृंगार में इन्हें रक्त चंदन अर्पित करना चाहिए। इनकी साधना से निसंतानों को संतान की प्राप्ति होती है। उन लोगों को सर्वश्रेष्ठ फल देती है जिनकी आजीविका राजनीति, प्रशासन है।

माता कुष्मांडा का मंत्र
================
मां कुष्मांडा का मुख्य मंत्र- कुष्मांडा देव्यै नम: का कम से कम 108 बार जाप करें अथवा सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ भी कर सकते हैं। इसके अलावा नीचे दिए गए मंत्र का भी जाप कर सकते हैं-
या देवी सर्वभूतेषु माँ कुष्मांडा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
अर्थ- हे माँ! सर्वत्र विराजमान और कुष्मांडा के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें।
इस दिन जहाँ तक संभव हो बड़े माथे वाली तेजस्वी विवाहित महिला का पूजन करना चाहिए। उन्हें भोजन में दही, हलवा खिलाना श्रेयस्कर है। इसके बाद फल, सूखे मेवे और सौभाग्य का सामान भेंट करना चाहिए। जिससे माताजी प्रसन्न होती हैं। और मनवांछित फलों की प्राप्ति होती है।

राजेन्द्र गुप्ता,
Óयोतिषी और हस्तरेखाविद
मो. 9611&12076
नोट- अगर आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो ऊपर दिए गए मोबाइल नंबर पर कॉल करके या व्हाट्स एप पर मैसेज भेजकर पहले शर्तें जान लेवें, इसी के बाद अपनी बर्थ डिटेल और हैंडप्रिंट्स भेजें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!