अजमेर में राष्ट्रीय पुस्तक मेला 13 से 21 अप्रेल तक

अजमेर, 10 अप्रेल। छपे हुए शब्दों की ताकत तथा प्रभाव से पठकों को रूबरू करवाने के लिए अजमेर में 13 से 21 अप्रेल तक होने वाला राष्ट्रीय पुस्तक मेला एक सशक्त माध्यम है। यह बात अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री आनन्दी लाल वैष्णव ने बुधवार को पुस्तक मेला आयोजन के संबंध में आयोजित बैठक में कलेक्ट्रेट सभागार में कही।

श्री वैष्णव ने कहा कि विद्यार्थियों में अध्ययन के प्रति रूचि उत्पन्न करवाने का यह बेहतरीन अवसर है। बच्चों में पुस्तक पाठन एक हॉबी की तरह विकसित होना चाहिए। पुस्तकें पढ़ने से व्यक्तित्व में परिपूर्णता आती है, उसमें निखार आता है। बच्चों को आभासी दुनिया से किताबों की दुनिया की तरफ डायवर्ट करने में इस अवसर का अधिकाधिक उपयोग किया जाना चाहिए।

प्रशिक्षु आईएएस तेजस्वी राना ने कहा कि राष्ट्रीय पुस्तक न्यास द्वारा आगामी 13 से 21 अप्रेल तक अजमेर में पहली बार राष्ट्रीय पुस्तक मेले का आयोजन किया जाएगा। आजाद पार्क में 9 दिन तक लगने वाले इस पुस्तक मेले में आमजन को देश विदेश के ख्यातनाम लेखकों की पुस्तकें पढ़ने एवं खरीदने का अवसर मिलेगा। यह मेला प्रतिदिन सुबह 11 बजे से शाम 8 बजे तक रहेगा। राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के द्वारा पुस्तक संस्कृति से आमजन को जोड़ने की यह सकारात्मक और सार्थक पहल है। पुस्तक मेले में हिंदी,अंग्रेजी व राजस्थानी भाषा की पुस्तकों को भी प्रर्दशित किया जाएगा। पुस्तक मेले में प्रतिदिन बच्चों व बड़े पाठकों के लिए कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इसमें प्रख्यात रचनाकार भागीदारी करेंगे। शाम के सत्र में बड़े पाठकों की भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए कार्यक्रम किये जायेंगे। इसमें कविता,व्यंग्य,नाटक,कहानी व विमर्श के सत्रों को रखा जाएगा जिसमें राजस्थान के प्रमुख रचनाकारों के अलावा दिल्ली के भी मशहूर लेखक पुस्तक मेले में सक्रिय भूमिका रखेंगे। मेले में मतदान जागरूकता से संबंधित विभिन्न गतिविधियां भी आयोजित की जाएंगी।

उन्होंने कहा कि विगत 60 वर्षों से अधिक समय से नेशनल बुक ट्रस्ट इंडिया पुस्तक प्रकाशन के क्षेत्र में है। देश के अधिकांश हिस्सों में आंचलिक इलाकों में भी ट्रस्ट अपनी गतिविधियों के साथ सक्रिय है। ट्रस्ट ने 300 से अधिक विदेशों में आयोजित पुस्तक मेलों में भागीदारी की है। ट्रस्ट लन्दन, जकार्ता, पेरिस, फ्रैंकफर्ट, सियोल, इटली, बीजिंग व शारजाह के साथ अन्य देशों में अपने प्रकाशनों के साथ मौजूद रहता है। विदेशों में भी भारत का प्रतिनिधित्व ट्रस्ट करता आया है। लगभग 40 से अधिक भाषाओं में ट्रस्ट पुस्तकों का प्रकाशन करता आया है। यह अजमेर के लिए एक विशेष अवसर है।

मेले में नेत्रहीन पाठकों के लिए भी ब्रेल लिपि की पुस्तकें उपलब्ध रहेगी। नेशनल बुक ट्रस्ट नई दिल्ली में विश्व पुस्तक मेले का आयोजन करता आया है जोकि फ्रैंकफर्ट के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा पुस्तक मेला है। इसमें एक हजार से ज्यादा देशी व विदेशी प्रकाशक अपने नवीनतम प्रकाशन के साथ मौजूद रहते हैं।

Leave a Comment