अजमेर जिले में चिकित्सा सेवाओं का भरपूर लाभ मिलने लगा है आमजन को

रघु शर्मा
अजमेर, 21 अक्टूबर। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की मंशा के अनुरूप जिले में प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा द्वारा चिकित्सा के क्षेत्र में आमजन को राहत प्रदान करने के लिए किए जा रहे प्रयास अब रंग लाने लगे है। लोगों को चिकित्सा सुविधा का समय पर लाभ मिलने से आमजन ने सुकून महसूस किया है।
प्रदेश स्तर पर चिकित्सा विभाग द्वारा आम व्यक्ति तक चिकित्सा सेवा का लाभ पहुंचाने के लिए जो योजना तैयार की वो अब सार्थक हुई है और सतह पर दिखने भी लगी है। चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा का मानना है कि सरकार की चिकित्सा संबंधित योजनाओं का लाभ समाज के प्रत्येक व्यक्ति को नीचे से नीचे पायदान तक मिलना सुनिश्चित करना ही मंत्रालय का प्रयास होता है। किसी को दर दर नही भटकना पड़े, एक आम आदमी की पहुंच से चिकित्सा का खर्चा बाहर ना जाएं, 24 घण्टे सातों दिन सभी जरूरतमंद नागरिकों को इसका लाभ मिले, इसी को मध्यनजर रखते हुए उन्होंने जनता की सहुलियत के लिए जिले को कई सौगातें दी है।

केकड़ी को मिला जिला चिकित्सालय का दर्जा
केकड़ी चिकित्सालय को जिला चिकित्सालय में क्रमोन्नत किया गया। जिसमें केकड़ी के आसपास के लोगों को जिला अस्पताल स्तरीय विशेषज्ञ सेवाएं केकड़ी में ही उपलब्घ हो सकेगी। केकड़ी चिकित्सालय में हिमोडायलिसिज सेवाएं भी उपलब्ध करायी गई है। जिससे इस कार्य के लिए अब लोगों को जयपुर नहीं जाना पड़ेगा। यह सेवाएं केकड़ी में ही उपलब्ध रहेगी।
जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय में कतारों से मिली मुक्ति
अजमेर के जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय में मरीजों की लम्बी लाईनों को देखते हुए हाल ही मे क्यू मैनेजमेंट प्रणाली टोकन सिस्टम लागू की गई। जिससे मरीज प्रतिक्षा कक्ष में बैठकर अपने नम्बर का इंतजार कर सकते है। इसी क्रम में आपातकालीन सेवाओं को भी अपडेट किया गया है। साथ ही मौसमी बीमारियों के लिए पूरे जिले में डिस्पेंसरी स्तर तक मच्छरों को मारने एवं उनकी आगे बढ़ोतरी को रोकने के लिए कई आवश्यक कदम उठाए गए है। लोगों में भी इस संबंध में जागरूकता आयी है वे दवा छिड़कना, घर घर सर्वे करना और मच्छरों को मारने के लिए फॉगिंग मशीन का इस्तेमाल करने में सहयोग करने लगे है।
इसके साथ ही जिले में चिकित्सा के क्षेत्र में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए जिनमें राजकीय चिकित्सालय पुष्कर के लिए अत्याधुनिक सुविधा हेतु नवीन भूमि का चिन्हिकरण, अजमेर जिले के 6 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों श्रीनगर, गगवाना, बांदनवाड़ा, टांटोटी, पुष्कर, भिनाय में डिजिटल एक्सरे मशीन उपलब्ध करवाना, मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना के तहत 104 प्रकार की नई दवाए शामिल कराना, मुख्यमंत्री निःशुल्क जांच योजना में मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध अस्पतालों में निःशुल्क होने वाली जांचों की संख्या 70 से बढ़ाकर 90 करना, ई सिगरेट की बिक्री पर पूर्णत रोक लगाया जाना और पान मसालों में टोबेको निकोटिन, मेगनेशियम, कार्बोनेट, मिनरल ऑयल की उपस्थिति पर तथा फ्लेवर्ड सुपारी पर प्रतिबंध लगाना जैसे महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाने से आमजन को निश्चित रूप से राहत महसूस हुई है।
चिकित्सा मंत्री ने दिन रात अथक मेहनत व प्रयास करके जिले की जनता को चिकित्सा सेवा के रूप में ना केवल वरदान दिया बल्कि प्रत्येक समाज में भी यह एक संदेश गया कि यदि व्यक्ति ठान ले तो उसे उसमें कामयाब होने से कोई रोक नहीं सकता। उनकेे प्रवास पर जन सुनवाई कार्यक्रम पर आम व्यक्तियों का उनसे संवाद करने का तरीका व हर व्यक्ति को संतुष्ट करने से आमजन भी सुकून महसूस कर रहा है।

साप्ताहिक समीक्षा बैठक
सम्पर्क पोर्टल के प्रकरणों का प्राथमिकता से करें निस्तारण – अतिरिक्त जिला कलक्टर
अजमेर, 21 अक्टूबर। अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री कैलाश चन्द्र लखारा ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे उनके विभाग से संबंधित राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निस्तारित करें।
अतिरिक्त जिला कलक्टर सोमवार को साप्ताहिक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर विभागीय प्रकरण अधिक होने से जिले की स्थिति अच्छी नहीं आती जो उचित नहीं है। सभी अधिकारी अपने -अपने प्रकरणों का तत्काल निस्तारित करें। राज सम्पर्क पर दर्ज प्रकरणों का समय पर निस्तारण नहीं होने से आमजन की समस्या का समाधान नहीं हो पाता, इसके लिए पोर्टल पर दर्ज प्रकरणों का तत्काल निस्तारण करें।
उन्होंने कहा कि जिले के मौसमी बीमारियों के उपचार में विशेष सावधानी बरती जाए। वर्तमान में मच्छरों के प्रकोप के कारण डेंगू और चिकनगुनिया के मरीजों में बढ़ोतरी हो सकती है। इस संभावित वृद्धि को ध्यान में रखते हुए समस्त चिकित्सालयों में उपचार की माकूल व्यवस्था हमेशा उपलब्ध रहनी चाहिए। चिकित्सालयों में पर्याप्त मात्रा में दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित करें। उन्होंने जलदाय विभाग को पेयजल में पर्याप्त मात्रा में क्लोरीन डालने के निर्देश दिए। पुष्कर पशु मेले में 24 घण्टे में पेयजल वितरण सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने नगर निगम को निर्देशित किया कि वे पटाखा विक्रेताओं के यहां अग्निशमन यंत्र रखने के लिए पाबंद करें।
उन्होंने सार्वजनिक निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि वे शहर में किए जाने वाले पैचवर्क की सूची तैयार कर कलेक्ट्रेट कार्यालय को प्रेषित करें। ऎसी ही सूची अन्य उपखण्डों की भी तैयार की जाए। उन्होंने पशुपालन विभाग को निर्देश दिए कि वे जिला स्तरीय नंदीशाला सरवाड़ में बनाने तथा अन्य ब्लॉक स्तर पर भी ऎसी ही नंदी शाला बनाने के लिए व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। इनमें निर्धारित मापदण्डों के अनुसार पशुओं की उपलब्घता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने पशुपालन विभाग को पुष्कर पशु मेले में आने वाले पशुओं का टीकाकरण किए जाने की व्यवस्था भी करने के निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि भेड़ निष्क्रमण का कार्य पूर्ण हो चुका है। जिले में लगभग 63 हजार भेड़ों का निष्क्रमण हुआ है।
इस मौके पर आईएएस प्रशिक्षु श्रीमती नित्या के, अजमेर विकास प्राधिकरण के सचिव श्री किशोर कुमार, जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी, कृषि विभाग के उप निदेशक श्री वी.के शर्मा, जिला कोषाधिकारी नेहा शर्मा सहित समस्त विभागों के जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

दीपावली पर्व पर कार्यपालक मजिस्ट्रेट नियुक्त
अजमेर, 21 अक्टूबर। जिला मजिस्ट्रेट एवं कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने एक आदेश जारी कर आगामी 27 अक्टूबर को दीपावली पर्व पर अजमेर शहर में कानून एवं शान्ति तथा सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए कार्यपालक मजिस्ट्रेट नियुक्त किए है।
आदेश के तहत अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के सचिव प्रशासन श्री एन.एल.राठी को वृत क्षेत्र दरगाह के लिए, कृषि विभाग के उप निदेशक श्री वी.के.शर्मा को वृत क्षेत्र उत्तर के लिए तथा तहसीलदार श्रीमती प्रीति चौहान को वृत क्षेत्र दक्षिण के लिए कार्यपालक मजिस्ट्रेट नियुक्त किया है। समस्त उपखण्ड मजिस्ट्रेटगण व तहसीलदार तथा कार्यपालक मजिस्ट्रेटगण अपने अपने क्षेत्रों में कानून एवं शान्ति व्यवस्था बनाए रखने के लिए आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करेंगे।

सातवीं आर्थिक गणना 2019 की समन्वय समिति की बैठक 25 को
अजमेर, 21 अक्टूबर। जिले में सातवीं आर्थिक गणना 2019 को सुव्यवस्थित एवं समयबद्धता के साथ सम्पादित करने के लिए गठित जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा की अध्यक्षता में आगामी 25 अक्टूबर को प्रातः 11 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की जाएगी। अतिरिक्त जिला कलक्टर ने यह जानकारी दी।

सरकारी कार्यालयों में समय की पाबंदी सुनिश्चित करने के लिए समिति गठित
अजमेर, 21 अक्टूबर। जिले के सरकारी कार्यालयों में समय की पाबंदी एवं कार्य स्थल पर उपस्थिति सुनिश्चित करने के संबंध में समिति का गठन किया गया है।
जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि जिले के विभिन्न विभागों का निरीक्षण करने के लिए 15 अधिकारियों को कार्यक्षेत्र निर्धारित किए गए है। यह अधिकारी संबंधित राजकीय निगम, बोर्ड, स्वायतशाषी संस्थाएं, चिकित्सालय, विद्युत कम्पनी, राजकीय विभाग, विभिन्न निर्माण कार्यों में अधिकारियों एवं कर्मचारियों की आकस्मिक जांच के लिए अधिकृत होंगे। जांच के दौरान अनुपस्थित कार्मिकों के नाम तथा अनुशासनात्मक कार्यवाही के लिए प्रस्ताव अतिरिक्त कलक्टर प्रशासन को भिजवाएंगे। उपखण्ड स्तर पर संबंधित उपखण्ड अधिकारी आकस्मिक जांच के लिए अधिकृत होंगे।

सजावटी एवं वर्गीकृत विज्ञापन राजस्थान संवाद के माध्यम से भेजना जरूरी
अजमेर, 21 अक्टूबर। समस्त राजकीय विभागों के सजावटी विज्ञापन एवं निगम, बोर्ड/ स्वायतशाषी संस्थाओं के वर्गीकृत एवं सजावटी विज्ञापन राजस्थान संवाद के माध्यम से भिजवाया जाना अनिवार्य है।
सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के आयुक्त श्री नीरज के पवन ने एक परिपत्र जारी कर समस्त विभागों, निगम, बोर्ड एवं स्वायतशाषी संस्थाओं को निर्देशित किया है कि वे अपने सजावटी विज्ञापन एवं वर्गीकृत विज्ञापनों का प्रकाशन / प्रसारण राजस्थान संवाद के माध्यम से ही किया जाना सुनिश्चित करें। कई विभाग, निगम, बोर्ड एवं स्वायतशाषी संस्थाएं सीधे ही अपने स्तर पर समाचार पत्रों / टीवी चैनलों में सजवाटी विज्ञापन / वर्गीकृत विज्ञापन जारी किए जा रहे है। जो उचित नहीं है एवं नियम विरूद्ध है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!