शिविर लगाकर निपटाए विवाद, पृथ्वीराज नगर में सौंपे भूखण्डों के कब्जे

प्रो. वासुदेव देवनानी
अजमेर, 27 फरवरी।
पूर्व शिक्षा मंत्री एवं अजमेर उत्तर विधायक वासुदेव देवनानी ने पृथ्वीराज नगर योजना में अब तक भूखण्डों का कब्जा नहीं मिलने से पीड़ित लोगों की आवाज गुरूवार को राजस्थान विधानसभा में उठाते हुए शीघ्र ही शिविर लगाकर विवादों का निपटारा करते हुए पीडितों को उनके भूखण्डों के कब्जे सौपने की मांग सरकार से की।
देवनानी ने कहा कि पृथ्वीराज नगर योजना में जिन लोगांे को भूखण्ड लाॅटरी में आंवटित हुए था या लेण्ड फाॅर लेण्ड में मिले थे वो अभी तक कागजों में ही अटके हुए है। लोग पिछले तेरह साल से भूखण्डों के कब्जे मिलने के इंतजार में है। अजमेर विकास प्राधिकरण न्यायालय में प्रकरण लंबित होने का बहाना बनाकर भूखण्डों के कब्जे देने के कार्य को लटकाए हुए है। 567 भूखण्डस्वामी कब्जे के लिए एडीए का मुहं तांके हुए है। देखते-देखते उनकी आॅखें पथरा गई है। एक के बाद एक साल गुजरता जा रहा हैं लेकन एडीए प्रशासन की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। उन्होंने कहा कि जिन मामलों में न्यायालय का हस्तक्षेप नहीं है कम से कम वो मामले तो एडीए प्रशासन के स्तर पर निपटाकर लोगों को भूखण्ड सौंपे जाने चाहिए।
देवनानी ने कहा कि लोगों ने सरकारी आवासीय योजना में सम्पूर्ण मूलभूत सुविधायुक्त परिसर की आस में भूखण्ड खरीदे थे। जब लाॅटरी में भूखण्ड निकले तो उन लोगों के परिवारों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा लेकिन खुशी ज्यादा दिन तक टिक नहीं पाई। भूखण्डों का कब्जा नहीं संभलाए जाने के कारण अब लोगों का धैर्य टूटता हुए नजर आ रहा है। देवनानी ने कहा कि एडीए को जल्दी ही शिविर लगाकर विवादों का निपटारा करने के लिए सकारात्मक कदम उठाने चाहिए तथा भूखण्डस्वामियों को भूखण्डों के कब्जे सौंपने चाहिए ।
सरकार की लीपा पोती
देवनानी ने इस मामले में सरकार पर लीपापोती करने का आरोप लगाया है। सरकार ने उनके प्रश्न के जवाब में बताया है कि कब्जा मिलने से वंचित रहे ऐसे भूखण्डधािरयों को राहत प्रदान करने के लिए प्राधिकरण की वैकल्पिक भूखण्ड आवंटन समिति की बैठक 11 मई 2018 की पालना में इसी योजना में समान क्षेत्रफल के 24 अन्य अविवादित वैकल्पिक भूखण्डों का आवंटन किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि यह एडीए की कार्यशैली का नमूना है कि बैठक के 21 माह में मात्र 24 भूखण्डों को आवंटन किया गया है तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि 567 लोगों को भूखण्डों के कब्जें दिलाने में कितना समय लगेगा
13 साल में पेयजल की व्यवस्था नहीं कर पाई एडीए
देवनानी ने कहा कि 13 साल बाद भी आज पृथ्वीराज नगर योजना में पेयजल वितरण की कोई व्यवस्था नहीं है ना पाईप लाईन है ना टंकियों का निर्माण हुआ है। एसी स्थिति में जिन लोगों को अविवादित भूखण्डों का कब्जा मिल भी गया है वो वहां पर मकान बनाकर रहने की स्थिति में नहीं है। एडीए के रवैये से ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार इस योजना को बसाना ही नहीं चाहती।

Leave a Comment

error: Content is protected !!