सोये हुए व्यक्ति के चरण स्पर्श क्यों नहीं किए जाते?

हमारे यहां मान्यता है कि सोये हुए व्यक्ति के चरण स्पर्श नहीं किए जाने चाहिए। अगर इस मान्यता से अनभिज्ञ कोई व्यक्ति सोये हुए व्यक्ति के चरण स्पर्श करता है तो उसे ऐसा करने से रोका जाता है। मान्यता तो यह तक है कि लेटे हुए व्यक्ति के भी चरण स्पर्श नहीं किए जाते। अगर … Read more

संपादक के भीतर का लेखक मर जाता है?

एक पारंगत संपादक अच्छा लेखक नहीं हो सकता। उसके भीतर मौजूद लेखक लगभग मर जाता है। यह बात तकरीबन पच्चीस साल पहले एक बार बातचीत के दौरान राजस्थान राजस्व मंडल की पत्रिका राविरा के संपादक और आधुनिक राजस्थान में रविवारीय परिशिष्ट का संपादन करने वाले श्री भालचंद व्यास ने कही थी। तब ये बात मेरी … Read more

नाम में क्या रखा है, ये सही नहीं, नाम में भी बहुत कुछ रखा है

कर्म प्रधान लोगों को आपने अमूमन यह कहते हुए देखा होगा कि नाम में क्या रखा है, काम ही महत्वपूर्ण है। जो कर्मठ है, उसकी यह सोच बिलकुल सही है। वे काम इसलिए करते हैं कि इससे उनको आत्म संतोष मिलता है, सुकून मिलता है। उन्हें इस बात की कोई फिक्र नहीं होती कि उनका … Read more

सत्यमेव जयते, मगर विलंब से क्यों?

सत्यमेव जयते। यह सूत्र सर्वविदित है। इसका अर्थ है कि सत्य की जीत होती है। चूंकि यह ऋषियों के अनुभव से निकल कर आया है, इस कारण इस पर विश्वास किया ही जाना चाहिए। लेकिन साथ ही यह भी सर्वविदित तथ्य है कि सत्य तकलीफ बहुत पाता है। जब तक उसकी जीत होती है, तब … Read more

आदमी उलट व्यवहार करे तो किन्नर, औरत करे तो झांसी की रानी?

यह कैसी उलटबांसी है कि आदमी अगर स्त्रियोचित व्यवहार करे तो उसे किन्नर करार दे कर हेय दृष्टि से देखा जाता है, जबकि कोई स्त्री पुरुषोचित व्यवहार या काम करे तो उस पर गर्व करते हुए उसे झांसी की रानी की उपाधि दे दी जाती है। आइये इस विषय में गहन डुबकी लगाने से पहले … Read more

क्या यूट्यूब न्यूज चैनल वाले फर्जी पत्रकार हैं? भाग दो

खैर, अब बात यूट्यूब न्यूज चैनल वालों की कि क्या वे फर्जी हैं? क्या वे गैर कानूनी हैंï? सरकार तो उन्हें अधिकृत पत्रकार नहीं मानती, पत्रकार संगठन भी उन्हें मान्यता देने को तैयार नहीं हैं। इन संगठनों में केवल उनको सक्रिय सदस्य बनाया जाता है, जिनके नाम से समाचार पत्र है, अथवा वे किसी दैनिक … Read more

क्या यूट्यूब न्यूज चैनल वाले पत्रकार फर्जी हैं? भाग एक

इन दिनों फर्जी पत्रकारों को लेकर बड़ी चर्चा है। पिछले आलेख में फर्जी पत्रकारिता की पराकाष्ठा पर प्रकाश डाला था, अब इसी मसले को अन्य कोणों से जानने की कोशिश करते हैं। इस आलेख को लिखने के बाद लगा कि विषय को ठीक तरह से समझने के लिए यह बहुत विस्तार पा गया है, लिहाजा … Read more

चौक में तवा उलटा रखने से बंद हो जाती है बारिश?

मानसून ने दस्तक दे दी है, हालांकि रिमझिम का दौर अभी शुरू नहीं हुआ है। उम्मीद है, जल्द ही झमाझम बारिश होने लगेगी। मौसम विभाग तो सेटेलाइट के माध्यम से पता लगाता है कि कहां कितनी बारिश होने की संभावना है और वह ज्यादा बारिश होने की चेतावनी भी देता रहता है, मगर पुराने जमाने … Read more

अखबार के दफ्तर को छूकर बन गया खबरनवीस!

पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहलाती है। यह सरकार व आमजन के बीच सेतु का काम करती हैं। न केवल जमीनी हकीकत से सत्ता को रूबरू कराती है, अपितु उसे आइना दिखाने का भी काम करती है। ऐसे में इसने एक शक्ति केन्द्र का रूप अख्तियार कर लिया है। पत्रकार को प्रशासन व सोसायटी में … Read more

लानत है हम पर…

लानत है हम पर कि तकरीबन ढ़ाई माह तक लॉक डाउन की पीड़ा भुगतने के बाद भी हमें सुधारने के लिए सरकार को मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग की पालना का जागरूकता अभियान चलाना पड़ रहा है। असल में लॉक डाउन एक मजबूरी थी, जिसने काफी हद तक कोरोना महामारी को रोकने की कोशिश की। रोका … Read more

मोरारी बापू कितने सही, कितने गलत?

सुप्रसिद्ध कथा वाचक मोरारी बापू इन दिनों खासे विवाद में हैं। उन पर भद्दी-भद्दी गालियां बरस रही हैं। अन्य धर्मों के प्रति उनकी सदाशयता तो बहस का विषय है ही, विशेष रूप से भगवान श्रीकृष्ण को लेकर दिया गया बयान उनकी मुसीबत बन गया है। हालांकि उन्होंने अपने बयान के लिए बाकायदा खेद व्यक्त कर … Read more

error: Content is protected !!