कोविड युग के बाद की चुनौतियों पर ध्यान देने के लिए भारत में सीनियर केयर पर सबसे बड़ा कॉन्क्लेव

एसोसिएशन ऑफ सीनियर लिविंग इंडिया का तीसरा ASLI वार्षिक सीनियर केयर कॉन्क्लेव 2021

नई दिल्ली, जनवरी 2021: भारत अब राष्ट्रीय स्तर पर कोविड-19 की वैक्सीन को रोलआउट करने के लिए तैयार है, लेकिन महामारी के दौरान देश के वरिष्ठ लोगों ने स्वस्थ जीवन के लिए काफी कठिनाइयों का सामना किया है। भारत में सीनियर केयर (वरिष्ठ देखभाल) और रहन-सहन के लिए चुनौतियों, समाधानों और भविष्य के रोडमैप का आकलन और विचार-विमर्श करने के लिए एसोसिएशन ऑफ सीनियर लिविंग इंडिया ने सीनियर हब ‘उन्मुक्त’ के साथ साझेदारी कर तीसरे वार्षिक सीनियर केयर कॉन्क्लेव को आयोजित करने का ऐलान किया है। यह कॉन्क्लेव 22-24 जनवरी 2021 को वर्चुअली आयोजित होगा, जिसमें सीनियर केयर इंडस्‍ट्री के प्रमुख हितधारकों को एक साथ लाया जाएगा।
‘रीइमेजनिंग द सीनियर केयर लैंडस्केप’ थीम के साथ, तीन दिवसीय कॉन्क्लेव का उद्देश्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर विचार-विमर्श और विचारों के आदान-प्रदान को सुविधाजनक बनाना है, जो विचार-विमर्श वाले सत्र और पैनल चर्चाओं के माध्यम से वरिष्ठ देखभाल को प्रभावित करते हैं । वर्चुअल कॉन्क्लेव में प्रतिष्ठित सरकारी गणमान्य व्यक्तियों, प्रतिष्ठित वक्ताओं और उद्योग विशेषज्ञों जैसे श्री दुर्गा शंकर मिश्रा, सचिव, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय, श्री मंसूर दलाल, संस्थापक और चेयरमैन एमेरिटस, ASLI ; श्री अंकुर गुप्ता, सह-संस्थापक और चेयरमैन, ASLI व जेएमडी, आशियाना हाउसिंग लिमिटेड; श्री रजित मेहता, मेंटर, सीआईआई सीनियर केयर टास्कफोर्स और सीईओ व एमडी अंतरा सीनियर लिविंग ; श्री आदर्श नरहरि, संस्थापक और एमडी, प्राइमस लाइफस्पेस प्राइवेट लिमिटेड; श्री डेविड स्टीवंस, संस्थापक, स्टैंडर्ड्स वाइज इंटरनेशनल के अलावा कई अन्य लोग शामिल होंगे। कॉन्क्लेव में नॉलेज लीडर्स और सरकार, सीनियर लिविंग ऑपरेटरों, स्वास्थ्य सेवा संगठनों, तकनीकी विशेषज्ञों, शिक्षाविदों और गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के 200 से अधिक प्रमुख हितधारकों की एक मंडली होगी, जो उद्योग की जरूरतों को संबोधित करेंगे।
भारत में सीनियर लिविंग कम्‍युनिटीज में अग्रणी, आशियाना हाउसिंग इस कॉन्क्लेव का प्लैटिनम प्रायोजक है। प्राइमस लाइफस्पेस और स्टैंडर्ड्स वाइज इंटरनेशनल इंडिया गोल्ड प्रायोजकों के रूप में जुड़े हुए हैं। कोलंबिया पेसिफिक कम्यूनिटीज और त्रावणकोर फाउंडेशन वर्चुअल इवेंट में क्रमशः सिल्वर और ब्रॉन्ज प्रायोजक हैं। कॉन्क्लेव के उद्घाटन के बाद दो-दिवसीय सीनियर उत्सव ऑनलाइन एक्सपो का आयोजन किया जाएगा, जिसमें वरिष्ठ नागरिकों को एक वर्चुअल मंच प्रदान किया जाएगा जहां वे अपनी अनूठी जरूरतों के अनुसार उत्‍पादों एवं सेवाओं को एक्‍स्‍प्‍लोर कर उनका चुनाव कर सकते हैं। बुजुर्ग सीनियर केयर इंडस्‍ट्री में अग्रणी लोगों और कई व्‍यावसायों के साथ संवाद कर सकते हैं। इन अग्रणी लोगों में अंतरा सीनियर लिविंग, ईपोच एल्‍डर केयर, कोवियल केयर,ईडेन, रिटायरमेंट लिविंग, इमोहा एल्‍डरकेयर, अतुल्‍य सीनियर लिविंग, होप एक आशा, क्षेत्र असिस्‍टेड लिविंग,अनंत लिविंग, बहरी एस्‍टेट्स, वेदांता सीनियर लिविंग, हेल्‍दीजीएक्‍स, परांजपे स्‍कीम्‍स, सीनियॉरिटी और अन्य शामिल हैं जोकि वरिष्ठ उपभोक्ताओं के लिए अपने अनूठे उत्पाद, पेशकश और सेवाएं प्रदर्शित करेंगे ताकि वे सुरक्षित वातावरण में रह सकें। कॉन्क्लेव व्यवसायों और व्यक्तियों को भी प्रस्तुत करेगा, जो रिटायरमेंट प्‍लानिंग और सीनियर केयर में काम करते हैं। उन्‍हें संबंध बनाने के अनूठे अवसर मिलेंगे और वे अपने कार्यक्षेत्र के दूसरे प्रमुख लोगों के साथ सहयोग मजबूत कर पायेंगे।
सीनियर केयर के महत्व पर प्रकाश डालते हुए ASLI के सह-संस्थापक और चेयरमैन श्री अंकुर गुप्ता ने कहा, “महामारी के बाद की दुनिया में ‘न्यू नॉर्मल’ के साथ हेल्‍थकेयर एवं तंदुरुस्‍ती का महत्व सबसे ज्यादा हो गया है, खासतौर से बुजुर्गों के लिए। भारत में सीनियर केयर इंडस्‍ट्री अभी भी एक नवोदित अवस्था में है, लेकिन निश्चित रूप से रिटायरमेंट कम्‍यूनिटीज में नए सिरे से रुचि दिखाई गई है जो वरिष्ठों के आराम, सुरक्षा और भलाई को ध्यान में रखते हुए बनाए गए हैं । इस कॉन्क्लेव के माध्यम से हमारा उद्देश्य सीनियर केयर इंडस्‍ट्री की जरूरतों को संबोधित करना है और हमारे बुजुर्गों को उनके स्‍वर्णिम वर्षों का आनंद लेने के लिए एक नियंत्रित और सुविधाजनक वातावरण प्रदान करने के लिए विभिन्न पारिस्थितिकी तंत्र खिलाड़ियों के बीच एक गहन और व्यापक सहयोग को बढ़ावा देना है।”
प्राइमस लाइफस्पेस प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक और एमडी श्री आदर्श नरहरि ने कहा, “कोविड-19 महामारी ने हम सभी पर कड़ा प्रहार किया है। कमजोर जनसांख्यिकी के बीच बुजुर्ग सबसे अधिक प्रभावित हुए, क्योंकि वे काम का प्रबंधन करने में असमर्थ थे और अपने बच्चों के साथ को याद करते थे। इसने आपातकालीन देखभाल आवश्यकताओं के साथ वरिष्ठ नागरिकों के लिए सुरक्षित स्थानों की आवश्यकता को पूरा किया है और उन्हें एहसास दिलाया है कि लिविंग कम्‍युनिटीज परेशानीरहित लिविंग के लिए बिल्‍कुल अनुकूल हैं। अब हम रिटायरमेंट होम्‍स की मांग में एक बड़ा बदलाव देख सकते हैं- जैसेकि दैनिक पूछताछ में 60% की वृद्धि हुई। इस बदलाव का कारण एक सुरक्षित, संगठित और अच्छी तरह से मदद करने वाले वातावरण में रहने के लिए बेहतर रोज़मर्रा की ज़िंदगी जीने का तनाव है। ASLI कॉन्क्लेव वरिष्ठ नागरिकों को एक ही स्‍थान पर देश भर में कई वरिष्ठ देखभाल प्रदाताओं के साथ बातचीत करने का एक शानदार अवसर प्रदान करता है।”

भारत की आबादी में वरिष्ठ नागरिकों का प्रतिशत हाल के वर्षों में तेजी से बढ़ रहा है और इस ट्रेंड के जारी रहने की संभावना है। हेल्प एज इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में साल 2050 तक वरिष्ठ नागरिकों की संख्या कुल आबादी की 20 प्रतिशत होने की उम्मीद है, जो साल 2015 की अपेक्षा 8 प्रतिशत ज्यादा है। दिसंबर 2012 में ASLI की स्थापना एक राष्ट्रीय संगठन के रूप में की गई थी, जिसका विजन सीनियर केयर के सभी पहलुओं (सीनियर लिविंग, होम केयर एंड लाइफस्टाइल एंड टेक्नोलॉजी प्रोवाइडर्स) की वृद्धि और विकास को उत्‍प्रेरित करना है। साथ ही यह एक सेल्‍फ-रेगुलेशन मॉडल बनाने और न्‍यूनतम मानकों के दिशानिर्देशों पर सरकार के साथ काम करनेकी इच्‍छा रखता है। ताकि खासतौर से इसके सदस्‍यों और बड़े पैमाने पर इंडस्‍ट्री में द्वारा परिचालन उत्‍कृष्‍टता हासिल की जा सके।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!