उपस्वास्थ्य केंद्र तक उपलब्ध रहे टेमी फ्लू: डॉ. सुनील सिंह

एएनएम का रात्रि विश्राम अपने स्वास्थ्य केंद्र पर हो सुनिश्चित: राधा देवी सियाग
राजकीय चिकित्साधिकारी सिर्फ चिकित्सक नहीं बल्कि अपने सेक्टर के स्वास्थ्य प्रभारी की भूमिका निभाएं
ः उपखण्ड अधिकारी बलारा

बीकानेर। स्वास्थ्य निदेशालय जयपुर के संयुक्त निदेशक (ग्रामीण स्वास्थ्य) एवं इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलेंस प्रोजेक्ट (आईडीएसपी) के राज्य नोडल अधिकारी डॉ. सुनील सिंह 10 दिन बीकानेर में रहकर स्वाइन फ्लू पर पक्की लगाम कसेंगे। चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा के निर्देश पर वे हर स्तर पर बैठकें व फील्ड विजिट कर ये सुनिश्चित करेंगे कि स्वाइन फ्लू के लिए स्क्रीनिंग, पहचान, जांच व उपचार की माकूल व्यवस्था उपलब्ध हो और किसी प्रकार की कोताही या खराब प्रबंधन से जनहानि की गुंजाइश न रहे। सोमवार को अपने बीकानेर प्रवास के पहले ही दिन उन्होंने स्वास्थ्य भवन में आयोजित जिला व खण्ड स्तरीय बैठकों में स्वाइन फ्लू रोकथाम से सम्बंधित गहन समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने उप स्वास्थ्य केंद्र स्तर तक टेमी फ्लू दवा (ओसल्टामिविर) की उपलब्धता रखने, पीएचसी-सीएचसी पर आइसोलेशन वार्ड, आरआरटी का गठन व अलग स्क्रीनिंग व्यवस्था रखने, घर-घर सर्वे को क्रॉस चेक करने तथा बी केटेगरी के जुकाम मरीजों की नियमित फॉलो अप करने के निर्देश दिए। बीकानेर खण्ड स्तरीय मासिक समीक्षा बैठक के साथ आयोजित बैठक में उन्होंने शिक्षा विभाग व रोडवेज के साथ सघन जनजागरूकता अभियान चलाने के निर्देश भी दिए।
पंचायत समिति बीकानेर प्रधान राधा देवी सियाग ने बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए एएनएम के स्वास्थ्य केंद्र पर ठहराव को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने अम्बासर उपस्वास्थ्य केंद्र में एएनएम की नियुक्ति के निर्देश भी बीसीएमओ को दिए।
एसडीएम बीकानेर मोनिका बलारा ने कहा कि राजकीय चिकित्साधिकारी सिर्फ मरीज देखने वाले चिकित्सक नहीं बल्कि अपने सेक्टर के स्वास्थ्य प्रभारी की भूमिका निभाएं और समस्त सेवाओं व योजनाओं की सघन मोनिटरिंग करें। उन्होंने राजश्री योजना के तहत बेटी की माँ को होने वाले भुगतानो में हो रही देरी के मुद्दे को भी उठाया और शत-प्रतिशत भुगतान के निर्देश दिए।
संयुक्त निदेशक बीकानेर जोन डॉ. एच.एस. बराड़ व सीएमएचओ डॉ. बी.एल.मीणा ने जिले में स्वाइन फ्लू के फैलाव की वस्तुस्थिति व रोकथाम के लिए जिला स्तर पर किए जा रहे प्रबंधन व गतिविधियों की जानकारी प्रस्तुत की।
बैठक में डिप्टी सीएमएचओ डॉ. योगेन्द्र तनेजा, एपिडेमियोलोजिस्ट नीलम प्रताप सिंह, डीपीएम सुशील कुमार, आईईसी समन्वयक मालकोश आचार्य, समस्त ब्लॉक सीएमओ, बीकानेर ब्लॉक के बीपीएम, चिकित्साधिकारी व एएनएम शामिल हुए।

अनुशासनहीनता के लिए 3 एएनएम को नोटिस
चिकित्सा कार्य में अनुशासन व संवेदनशीलता को रेखांकित करते हुए डॉ. सिंह ने बिना वर्दी के बैठक में आई 3 एएनएम को नोटिस भी जारी करने के निर्देश दे डाले। डॉ. सिंह के निर्देश पर बैठक में आई ब्लॉक बीकानेर की समस्त एएनएम को एक दिन के लिए बीकानेर शहरी क्षेत्र में घर-घर सर्वे-जन जागरण के लिए भेजकर अभियान को मिशन मोड दिया गया।

Leave a Comment