फिर मानवीय संवेदना और कर्तव्य परायणता का परिचय दिया नमित मेहता ने

*चन्दन सिंह भाटी*

जैसलमेर जैसलमेर जिला कलेक्टर ने नमित मेहता आज फिर उन ग्यारह लोगो के
लिए भगवन का अवतार बन कर सामने आये जिनको खेत के मालिक ने मजदूरी से
निकाल कर बेसहारा मोहनगढ़ छोड़ गया ,ने मेहता ने एक बार फिर मानवीय संवेदना
के साथ कर्तव्य परायणता का परिचय दिया ,मोहनगढ़ क्षेत्र के किसी खेत मालिक
के वहां उत्तराखंड के ग्यारह जने जिसमे चार पुरुष ,छह महिलाए खेत पर
मजदूरी का कार्य कर रहे थे ,ये लोग यहाँ लम्बे समय से मजदूरी करते थे
,कोरोना वायरस सके चलते लॉक डाउन के दौरान आज खेत मालिक ने इन्हे मजदूरी
से निकाल ट्रेक्टर ट्रॉली में बिठाकर मोहनगढ़ बेसहारा छोड़ गए ,इनके एक
मासूम बच्चा भी हैं ,ये लोग सुबह से भूखे प्यासे थे कोई मददगार इन्हे
नसीब नहीं हुआ ,इन्होने अपने परिचित को उत्तराखंड मदद के लिए गुहार की
,उत्तराखंड के कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय को मदद की
गुहार की।उपाध्याय ने नमित मेहता से इस संबंध में मदद के लिए बात की।वही
अलवर से प्रदीप पंचोली ने भी इस मामले में सहयोग का आग्रह किया।जिला
कलेक्टर नमित मेहता ने मानवीय संवेदना और कर्तव्य परायण दिखाते हुए
पीड़ितों को मोहनगढ़ में चिन्हित किया।तथा उनके लिए खाने और रहने का तुरंत
प्रभाव से वतावस्था की।।इन लोगो ने जिला कलेक्टर को भगवान का दूत बताते
हुए जमकर तारीफ की।कलेक्टर को दुआएं दी।।जिला कलेक्टर नमित मेहता की
मानवीय संवेदनाओं से भरी कार्यशैली का शुक्रगुजार किया।।इधर उत्तराखण्ड
के किशोर उपाध्याय ने भी ट्विटर पर ट्वीट कर जिला कलेक्टर नमित मेहता का
तत्काल पीड़ितों को राहत देने का आभार जताया।।उपाध्याय ने धर्मेंद्र
राठौड़,सुनील दत्तात्रेय,प्रदीप पंचोली,चन्दन सिंह भाटी का भी आभार
जताया।।

Leave a Comment

error: Content is protected !!