नवरात्रि घट स्थापना

आज यानी 6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र शुरू हो रहे हैं, जो कि 14 अप्रैल तक चलेंगे. साल में सबसे पहले आने वाली इस नवरात्रि के साथ-साथ हिंदू नव वर्ष भी मनाया जाता है। इसे महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा (इसे मराठी का नव वर्ष के तौर पर भी जाना जाता है। कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में इस पर्व को युगादि के रूप में मनाया जाता है. हिन्दू कैलेंडर के अनुसार हर साल चैत्र महीने के पहले दिन से ही नव वर्ष की शुरुआत हो जाती है। इसी दिन से चैत्र नवरात्रि भी शुरू हो जाती है। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की पूजा की जाती है।

चैत्र नवरात्रि का शुभ मुहूर्त
========================
इस बार कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त 4 घंटे 7 मिनट तक चलेगा।
सुबह – 06.19 से 10.26 तक।

नवरात्रि की पूजा-विधि
====================
1. सबसे पहले सुबह नहा-धोकर मंदिर के पास ही पटले पर आसन बिछाएं और मां दुर्गा की मूर्ति की स्थापना करें।
2. माता को चुनरी उढ़ाएं और शुभ मुहूर्त के अनुसार कलश स्थापना करें।
3. सबसे पहले भगवान गणेश का नाम लें और माता की पूजा आरंभ करें।
4. नवरात्रि ज्योति प्रज्वलित करें इससे घर और परिवार में शांति आती है और नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है।
5. माता को लौंग, पताशा, हरी इलायची और पान का भोग लगाएं।
6. भोग लगाने के बाद माता की 9 बार आरती करें।
7. हर मां का नाम स्मरण करते रहें।
8. अब व्रत का संकल्प लें।

नवरात्रि का महत्व
===================
साल में चार बार नवरात्रि आती है. आषाढ़ और माघ में आने वाले नवरात्र गुप्त नवरात्रि होते हैं जबकि चैत्र और अश्विन प्रगट नवरात्रि होते हैं। चैत्र के ये नवरात्र पहले प्रगट नवरात्रि होते हैं। चैत्र नवरात्र से हिन्दू वर्ष की शुरुआत होती है। वहीं शारदीय नवरात्र के दौरान दशहरा मनाया जाता है। नवरात्रि के नौ दिनों को बेहद पवित्र माना जाता है। इस दौरान लोग देवी के नौ रूपों की आराधना कर उनसे आशीर्वाद मांगते हैं। मान्यता है कि इन नौ दिनों में जो भी सच्चे मन से मां दुर्गा की पूजा करता है उसकी सभी इच्छाएं पूर्ण होती हैं।

चैत्र नवरात्रि की तिथियां और माता के रूपों के नाम –
========================================
6 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का पहला दिन – शैलपुत्री का पूजन
7 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का दूसरा दिन – बह्मचारिणी पूजन
8 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का तीसरा दिन – चंद्रघंटा का पूजन
9 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का चौथा दिन – कुष्मांडा का पूजन
10 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का पांचवां दिन – स्कंदमाता का पूजन
11 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का छठा दिन – सरस्वती का पूजन
12 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का सातवां दिन – कात्यायनी का पूजन
13 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का आठवां दिन – कालरात्रि का पूजन (कन्या पूजन)
14 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का नौवां दिन – महागौरी का पूजन (कन्या पूजन, नवमी हवन और नवरात्रि पारण)।

Leave a Comment

error: Content is protected !!