जुम्मे की नमाज की व्यवस्था को लेकर एक पत्र लिखा

हसन चिश्ती
अजमेर, 3 मई। ख्वाजा साहब के गद्दीनशीन एस. एफ. हसन चिश्ती ने दरगाह कमेटी के नाजिम के नाम एक पत्रद्व लिखकर रमजान के अवसर पर साफ-सफाई व जुम्मे की नमाज की व्यवस्था को लेकर एक पत्र लिखा है। श्री चिश्ती ने पत्र में लिखा है कि रमजानुल मुबारक के पूरे महिने में बड़ी तादाद में पूरी दरगाह शरीफ में सेहरी व अफ्तारी का आयोजन होता है। इस अवसर पर दरगाह शरीफ की मस्जिदे व वजूखाना, आहता-ए-नूर दरगाह शरीफ व उसके पास में बनी हुई नालियों की विशेष सफाई करवाई जाये। साथ ही साथ जुम्मे की नमाज के वक्त औरतों का विशेष इंतजाम करवाया जाये। जुम्मे की कुदबे के दौरान औरतें चार नम्बर गेट, पांच नम्बर गेट पर पुरुष नमाजियों को अंदर नहीं आने देती। वे बीचोंबीच खड़े होकर नमाजियों से जिद्द बहस करती है यहां तक कि कई दफा पुरुष व महिलाओं में धक्का-मुक्की व गली-गलौच की नौबत आ जाती है। ज्ञात रहे मेरे द्वारा जुम्मे की मर्द-औरत की नमाज की व्यवस्था को लेकर दिए गए कमेटी को पत्र 16 जून 2006 में दिया जब से लेकर आज तक कमेटी को पत्र लिख रहा हूं लेकिन बड़े दुख के साथ लिखना पड़ रहा है कि कमेटी ने इसको लेकर अभी तक कोई ठोस कार्यवाही नहीं की। वर्तमान में दरगाह शरीफ में मशीनों द्वारा जो सफाई की जा रही है वह संतोषजनक है। मैं उसके लिए कमेटी का आभारी हूं। ज्ञात रहे रमजान माह में जुम्मेतुल विदा को छोड़कर अन्य जुम्मे के अलावा भीड़ कम रहती है।

Leave a Comment