सरकार प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने की व्यवस्था करें

सरकार प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने की व्यवस्था करें कमठा मजदूर यूनियन बाड़मेर के अध्यक्ष लक्ष्मण बडेरा ने बाड़मेर के जिला कलेक्टर अंशदीप से मिलकर ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि सरकार प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था करें मजदूर नेता लक्ष्मण बडेरा ने जिला कलेक्टर को बताया कि प्रवासी मजदूर बाड़मेर जिले के गुजरात महाराष्ट्र कर्नाटक केरल मध्य प्रदेश गोवा आदि राज्यों में मजदूरी करने के लिए गए हुए है कोरोना वायरस के कारण सरकार ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था उसके बाद सरकार ने लगातार लॉक डाउन किया था इस कारण यात्रा के तमाम साधन बंद कर दिए गए जिसमें बस रेल हवाई जहाज सभी प्रकार के आवागमन पर रोक लगा दी इस कारण गुजरात राज्य में फंसे हुए लोग पैदल ही राजस्थान की ओर आने लगे और रास्ते में यह भारी कठिनाइयों का सामना करते हुए संक्रमित लोगों का मुकाबला करते हुए अपने घर पहुंचेंगे तब तक कितने लोग जिंदा पहुंचेंगे और कितने लोग जान गवा देंगे इसका अंदाजा सरकार को लगाना चाहिए मजदूर नेता लक्ष्मण बडेरा ने बड़े अफसोस के साथ में कहा कि विदेशों में काम करने वाले साधन संपन्न लोगों को सरकार ने हवाई जहाज में बिठाकर भारत में लाकर उनके घर तक पहुंचाया मगर भारत में जो प्रवासी मजदूर हैं जो दिहाड़ी मजदूर हैं जो अपने दूसरे राज्य में मजदूरी करके अपने परिवार का गुजर-बसर करते हैं उनको अपने परिवार तक लाने मैं सरकार ने रोक लगा रखी है ऐसी सूरत के अंदर उनके खाने उनके रहने और उनके नियोजक द्वारा जिसके वह काम करते थे छोड़कर चले जाने से भुखमरी के हालात पैदा हो गए ऐसी सूरत के अंदर इन मजदूरों को तत्काल इन्हें घरों तक छोड़ने के लिए सरकार को व्यवस्था करनी चाहिए अन्यथा यह लोग परेशानी का सामना करते हुए सरकार को कोसते रहेंगे सरकार को विदेशी मजदूर और देशी मजदूर में भेदभाव नहीं करना चाहिए विदेशों की धरती पर रहने वाले भारतीय मजदूर को हवाई जहाज में बैठा कर लाते हो और देश के अंदर काम करने वाले मजदूर को बस में बैठाकर कि घर पहुंचाने में सरकार आनाकानी कर रही है इस भेदभाव रवैए की कड़ी आलोचना करते हैं

Leave a Comment

error: Content is protected !!